You are here: Homeविदेशजीहाँ ये हैं दुनिया के सबसे सुरक्षित देश, जहाँ पुलिस भी नहीं रखती बंदूक

जीहाँ ये हैं दुनिया के सबसे सुरक्षित देश, जहाँ पुलिस भी नहीं रखती बंदूक

Written by  Published in World Wednesday, 21 February 2018 11:27
Rate this item
(0 votes)

यूरोप के खूबसूरत देशों में से एक आइसलैंड में जुर्म नाम की चीज नहीं है। कम से कम आज के हालात को देखकर तो यही कहा जा सकता है। आलम यह है कि देश के अधिकांश पुलिस अधिकारियों के पास भी बंदूक नहीं रहती है।

आइसलैंड एक शांतिप्रिय देश है जिसकी न तो आर्मी है और न ही नेवी। पुलिस ने साल 2013 में जब आइसलैंड में एक व्यक्ति को गोली मार दी थी, तो यह अखबारों की सुर्खियां बन गई थी। इस देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था, जब पुलिस ने आग्नेयास्त्रों का इस्तेमाल कर किसी की हत्या की थी। आइसलैंड में करीब तीन लाख लोग रहते हैं।

हालांकि, देश की एक तिहाई आबादी के पास हथियार हैं। यह दुनिया का 15वां ऐसा देश है, जहां प्रति व्यक्ति के लिहाज से सबसे ज्यादा हथियार हैं। मगर, इसके बाद भी अपराधिक घटनाएं यहां कम ही देखने को मिलती हैं।

ब्रिटेन

हालांकि, हाल के दिनों में ब्रिटेन में अपराधिक घटनाओं की संख्या में इजाफा हुआ है। मगर, फिर भी यहां अपराध काफी कम हैं। लोग पुलिस तक आसानी से पहुंच हासिल कर सकते हैं। यहां 19वीं शताब्दी के बाद से पैट्रोलिंग करने वाले ब्रिटिश अधिकारी स्वयं को नागरिकों के संरक्षक मानते हैं, जिन्हें आसानी से लोगों की मदद के लिए सुलभ होना चाहिए।

पुलिस और संदिग्ध अपराधियों के बीच घातक संघर्षों की बहुत कम घटनाएं हैं। साल 2004 के सर्वे में ब्रिटेन के पुलिस फेडरेशन के 82 प्रतिशत सदस्यों ने कहा कि वे नियमित रूप से ड्यूटी के दौरान हथियार लेकर नहीं चलना चाहते हैं। करीब एक तिहाई ब्रिटिश पुलिस अधिकारियों ने ड्यूटी पर रहने के दौरान अपने जीवन पर खतरा बताया, लेकिन फिर भी हथियारों को लेकर चलने का विरोध किया।

 

न्यूजीलैंड

ऑकलैंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी के सीनियर क्रिमिनोलॉजी लेक्चरर जॉन बटल ने एक निबंध में कहा कि वास्तव में पुलिस अधिकारियों के लिए हथियार लेकर चलना सुरक्षित नहीं है। उन्होंने 2010 में प्रकाशित एक पत्र में लिखा था कि न्यूजीलैंड में एक पुलिस अधिकारी के मुकाबले एक किसान ज्यादा खतरनाक है। पुलिस को हथियार देने का मतलब है कि अपराधियों में भी हथियारों की दौड़ शुरू हो जाएगी और इससे होने वाली मौतों की संख्या बढ़ेगी। सिडनी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के एसोसिएट प्रोफेसर फिलिप एल्फर ने कहा कि देशभर में केवल एक दर्जन वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को ही बंदूक दी गई है।

नॉर्वे

इस स्कैंडिनेवियाई देश में हत्याएं बहुत दुर्लभ ही होती हैं। इस देश में भी पुलिस अधिकारी बंदूक लेकर नहीं चलते हैं। मगर, साल 2011 में नॉर्वे एक त्रासदी ने यह साबित कर दिया था कि पुलिस अधिकारियों के निहत्थे घूमने से क्या खतरा हो सकता है। एंडर्स बेहरिंग ब्रेविक ने एक ग्रीष्मकालीन शिविर पर हमला कर 77 लोगों की जान ले ली थी। बहुत से लोगों ने इस भयावह हत्याकांड के लिए पुलिस की देर से प्रतिक्रिया करने को दोषी ठहराया था। हालांकि, अब तक निहत्थे पुलिस अधिकारियों की परंपरा आतंकवाद के डर से भी मजबूत साबित हुई है।

 

Read 158 times

Leave a comment

  • Sau Losh
    Sau Losh
    Saturday, 20 October 2018 10:49

    You should participate in a contest for among the best blogs on the web. I will suggest this website!

  • Carlos Brackenbury
    Carlos Brackenbury
    Thursday, 18 October 2018 21:57

    Thanks for a very interesting web site. Where else may I get that kind of info written in such a perfect method? I have a undertaking that I’m simply now operating on, and I have been on the look out for such information.

  • Kary Miravalle
    Kary Miravalle
    Thursday, 18 October 2018 15:39

    I’m impressed, I must say. Truly rarely do I encounter a weblog that’s both educative and entertaining, and let me tell you, you have hit the nail around the head. Your concept is outstanding; the problem is an element that insufficient persons are speaking intelligently about. We are delighted we stumbled across this around my look for something concerning this.

  • Danny Draudt
    Danny Draudt
    Thursday, 18 October 2018 14:00

    Oh my! an incredible article man. Thanks a lot Unfortunately I am experiencing issues with ur rss . Don’t know why I am struggling to subscribe it. Perhaps there is somebody getting identical rss issues? Anyone who can help kindly respond. Appreciate it

  • India Soliz
    India Soliz
    Thursday, 18 October 2018 10:28

    Giving you the best News is very much imptortant to us.

  • Lewis Allanson
    Lewis Allanson
    Wednesday, 17 October 2018 23:55

    Hmm it appears like your blog ate my first comment (it was extremely long) so I guess I’ll just sum it up what I submitted and say, I’m thoroughly enjoying your blog. I too am an aspiring blog blogger but I’m still new to everything. Do you have any points for beginner blog writers? I’d genuinely appreciate it.

  • Oliver Elvin
    Oliver Elvin
    Wednesday, 17 October 2018 13:14

    I want reading through and I conceive this website got some truly useful stuff on it! .

  • 188bet
    188bet
    Wednesday, 17 October 2018 03:50

    Enjoyed every bit of your article.Much thanks again. Keep writing.

  • dmca
    dmca
    Tuesday, 16 October 2018 02:36

    Hey, thanks for the article post.Thanks Again. Keep writing.

  • Diep Son Nha Trang
    Diep Son Nha Trang
    Monday, 15 October 2018 23:13

    I truly appreciate this blog article. Really Cool.

फोटो गैलरी

Market Data

एडिटर ओपेनियन

IPL की साख पर सवाल गलत: श्रीनिवासन

IPL की साख पर स...

नई दिल्ली।। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड...

अरुणाचल की तीरंदाजों को चीन ने दिया नत्थी वीजा!

अरुणाचल की तीरं...

नई दिल्ली।। अरुणाचल प्रदेश की दो नाबालिग...

Video of the Day

Right Advt

Contact Us

  • Address: Pramod Babu Jha C/O Yuvraj Singh, D32/A, Gangotree Nagar, Dandi Naini, Allahabad, 212103
  • Tel: +(011) 9452377524, 8707786570
  • Email:  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
  • Website: http://www.smartindianews.in

About Us

Smart India News is one of the renowned Hindi Magazine in print and web media. It has earned appreciation from various eminent media personalities and readers. ‘Smart India News’ is founded by Mr Pramod Babu Jha.